What Are Common Things Every Couple Notices in the First Ultrasound, and How Does It Feel?


What Are Common Things Every Couple Notices in the First Ultrasound, and How Does It Feel?

The feeling of seeing a baby for the first time after the news you heard of pregnancy is a special and unforgettable movement and comes along with many questions and curiosity, so in this article, you will learn about everything a couple of experiences in the first round of ultrasound is the pregnancy period. 

A common question is when you can go for an ultrasound scan? 

It can be different in the case of IVF ( In vitro fertilization ) of naturally conceiving as if your partner is conceiving naturally, and then you can go for a scan seven to eight weeks after you miss periods. 

But in the case of IVF, where the fertilization process takes place outside the body at a specialized IVF Centre . A female egg is delicately combined with male sperm, and the embryo is transferred to the woman’s body. So, after the embryo transfer, you can go for an ultrasound after five to six weeks.  

 

IVF is not an easy process. Before the procedure of IVF gets carried forward, the doctors need to check the abdomen part of the body internally as well, so Laparoscopy Surgery or in any other gynae hospital is performed to examine the body internally.  

Why is it important to perform an ultrasound during pregnancy? 

The Foremost reason to perform an ultrasound after a missed period is to confirm the pregnancy. And in the case of IVF, it is important to conduct in order to know the condition of the embryo as it adapts to the environment or not and also to determine if it is a twin or single baby is developing as in some rare care of IVF tree babies are also born. In that type of pregnancy, the baby and mother need proper care, so it is essential to consult the Gynaecologist on time.

What are the primary things that get noticed in the first ultrasound? 

  • You can hear the child’s heartbeat for the first time in your first ultrasound. 
  • It gives a proper report about the development and growth of the fetus. 
  • It can also detect complications in the pregnancy. 
  • In the IVF case, it also records the size and position of the embryo and placenta, as this plays a vital role. 
  • It also examines the condition of the other reproductive organs, like ovaries. Cervix and uterus.

A repeatedly asked question is how many times a prenatal ultrasound is needed to perform during the full span of pregnancy? 

If it is a natural pregnancy and you are not having any complications, then you only need to do it twice or three times every three to four months to ensure the child’s well-being. Pregnancies with complications need to be regularly kept intact with the condition as that can help doctors and midwives conduct safe deliveries at the time of delivery.  

 

Why is an MRI scan done? Is it possible for us to read it?

To treat our problems, we would wish to go to the best diagnostic centre in Ludhiana. The diagnostic centres are better because they can find the root cause of the disease and provide a precise and proper examination of our problems. For appropriate assessment, several tests and scans were conducted. MRI scan is one of the major scans done to know about the issue. 

MRI scans are performed as they help the doctor diagnose the disease faster and also help see the growth in the treatment process. The MRI scan cost in Ludhiana approximately starts from 2,500 INR to 13000 INR. Generally, the doctors are the one who reads the scan reports, but what if you can read the MRI scan reports by yourself? 

So let’s discuss some steps by which you can read your reports by yourself:  

Observation of the images is crucial. 

It is vital to see the image carefully. To exactly know the area in which abnormality is being located. To learn about you should have acknowledged the sequences and plates. Let’s discuss this in other points. 

Always get your information rechecked. 

Before collecting the report, you should check the information properly. Sometimes in labs, the reports get exchanged. It is a crucial step in the process of reading an MRI scan report. 

What are sequences and planes?

Sequences are of two types T1 weighted and T2-weighted. T1 represents the fat tissues, which appear bright, whereas T2 represents both fat and water tissues. It also appears bright. The bones and matter appear black and grey, respectively. 

The important thing to keep in mind while reading the MRI Scan report is that planes should have the right sequence. There are four types of planes: a red dotted line represents the axial plane, the coronal plane has a green dotted line represents the coronal plane, the yellow dotted line is for the sagittal plane, and the oblique plane provides two-dimensional images of ultrasound. All of these planes appear differently. 

You have to see where the abnormality is located.

MRI scans provide you with abnormal signals which help you find the exact position of abnormality, like whether the fatty mass is in your muscle tissue or fat tissue. You have to see the sequences T1 weighted and 12 weighted areas and compare them with each other so they will provide you with the precise location, size, and shape of the abnormality. 

Compare MRI reports with other reports as well.

Once you complete the MRI scan reading, consider comparing the MRI scan report with other test reports as well, like CT scans, blood reports, or ultrasound reports. It will help you make a proper examination of your health if you are undergoing a treatment process. 

Relate the changes in the body with the MRI scan reports.

Changes in the body refer to clinical questions like what are symptoms you are facing, if they are chronic or acute, how much time you are facing them, or if there side effects you got after medications. It will help you understand your condition well, and you will get more clarity about the abnormality.  

 

What is the definition of an MRI Scan?

For the different problems, there are different scans and tests. The different types of tests tell you about the different problems that can occur in your body. MRI is a type of scan and stands for Magnetic resonance imaging. MRI is a type of diagnostic test that can create clear and detailed images of every structure and organ inside the body. MRI uses magnets and radio waves to produce images on a computer. MRI does not use ionizing radiation. Images produced by an MRI scan can show organs, bones, muscles and blood vessels. 

What is the definition of MRI? 

Most of the people will only ever hear the MRI referred to by its abbreviation. The Full form of MRI is Magnetic Resonance imaging. In this test, Radio Waves are used, and powerful magnets are used to click the image from the depth of the human body. These images send the correct and critical information about each and everything that is going on inside your body. The best diagnostic center in Ludhiana is Kalyan Diagnostic.  

What’s the MRI Machine look like? 

The MRI machine is a long, narrow tube that is openable from both ends. For taking the MRI X-ray, a person has to lie down on a table that slides into the opening of the tube; a technician monitors the MRI machine and you from the other room by using a microphone. 

Things you have to tell your doctors before the MRI Scan

Many people have a fear of enclosed spaces. A condition of phobia of enclosed spaces is known as claustrophobia. Your doctors suggest you take steroids in order to feel relaxed and less anxious. 

The procedure of MRI scans. 

The MRI machines create the strongest magnetic force around you. The radio waves are directly emitted into your body. The MRI procedure is painless. People do not feel the magnetic and radio waves. There are no moving parts around the individuals. MRI scans can affect the internal part of the magnet, producing repair tapping, thumping, and other kinds of noises. Your doctors suggest wearing earplugs and listening to music just to block the noise. A contrast material, gadolinium, will be injected into the intravenous line into a vein in the hand and arm. The material of contrast is lucrative for making certain details clearer. Gadolinium causes allergic reactions in some cases. It helps pinpoint the portions of your brain that control these actions. For the best and safest test, visit the best Diagnostic center in Ludhiana.

Benefits of MRI Scan

MRI scans can be beneficial for taking images of the different parts of the body. It takes images of the Head, joints, abdominal area, and other parts from different directions. Your tissues become less contrasty in MRI than in the CT scan and other different imaging scans. These images provide information to physicians and can be useful in diagnosing a wide variety of diseases and conditions.

Risk factor of the MRI scans. 

The images are made without the use of ionizing radiation. Patients do not see the harmful effects of ionizing radiation. But while there are no known health hazards from temporary exposure to the MR environment, the MR environment involves a strong, static magnetic field, a magnetic field that changes with time (pulsed gradient field), and radiofrequency energy, each of which carries specific safety concerns:

  • The strong, static magnetic field will attract magnetic objects (from small items such as keys and cell phones to large, heavy items such as oxygen tanks and floor buffers) and may cause damage to the scanner or injury to the patient or medical professionals if those objects become projectiles. Careful screening of people and objects entering the MR environment is critical to ensure nothing enters the magnet area that may become a projectile.
  • The magnetic fields that change with time create loud knocking noises, which may harm hearing if adequate ear protection is not used. They may also cause peripheral muscle or nerve stimulation that may feel like a twitching sensation.
  • The radiofrequency energy used during the MRI scan could lead to heating of the body. The potential for heating is greater during long MRI examinations.

The diagnostic center does the MRI with a prescription that is given by a doctor who is well-qualified and experienced. Book an appointment with Kalyan Diagnostics for better-quality scans, and it is also one of the best centers for MRI Test in Ludhiana.

A Comprehensive Guide To Get Best Mri Services In Ludhiana

When a patient is suffering from any condition that affects the internal organs of humans or they might have damage done to the soft tissues in their body, medical professionals advise them to get either a CT scan or MRI done.

 

If you are wanting to get any of these procedures done to you and want to know the MRI cost in Ludhiana, then you should read this blog post.

 

KALYAN DIAGNOSTICS Ludhiana is famous for procedures like CT scan and MRI. Their team of expert doctors like Dr.Rajinder Singh has cured many patients till today. 

 

It was established to provide the best medical care at economical prices. They are equipped with the most advanced equipment and use them to get precise diagnoses every time.

 

At KALYAN DIAGNOSTICS, you can get the best CT Scan Cost in Ludhiana. A large number of patients are treated at the hospital each day successfully. 

 

MRI uses elements like magnetic fields and also computer-generated radio waves to generate expansive imagery of internal organs and tissues in the human body. 

 

Images obtained during MRI are vital in understanding the condition of soft tissues, which in turn helps to understand and diagnose conditions like brain tumor, cancerous tumours and other kinds of issues like brain disorders.

 

KALYAN DIAGNOSTICS provides the best MRI services in Ludhiana. They have a well-trained team of medical professionals who are experts in their fields.

 

They are an all-encompassing institute that provides all diagnostic facilities under one roof like Ultrasound, Digital X-Ray, Doppler, Digital OPG etc.

 

They are widely famous for providing accurate, reliable, affordable diagnostic services at minimal costs.

 

They are open all throughout the day, all days of the week, so you can visit the hospital at any time you require. 

 

We also provide emergency admission at any time. You can directly come to our hospital without the requirement of a prior booking, this gives the patients a better chance to get admitted in case of a health emergency.

 

They are also present online. One can visit their official website to get detailed information about the institution and the services they provide. This makes it easier for the patients to be well-versed in the hospital.

 

At KALYAN DIAGNOSTICS, MRI is performed using state-of-art technology and well-experienced doctors. An MRI machine is a tube-like magnetic machine; when a patient lies down inside the MRI machine, the magnetic field of the machine temporarily aligns itself to the water molecule present in the body of the patient.

Once aligned, the atoms release feeble signals which are used to create cross-sectional imagery of the patient’s body.

 

It is a non-invasive procedure, meaning it does not require any intentional cuts and cruises to the patient.

 

Both MRI and CT scans are done differently. While a Ct scan uses X-Ray, MRI depends upon a strong magnetic field to obtain imagery of the internal organs. Mri is usually not the first choice for the diagnosis; MRI is done when a CT scan is not able to detect an issue.

 

THINGS TO CONSIDER BEFORE GETTING MRI DONE 

a)Presence of metal- If a patient has any type of metal implants in his/her body, they should let the doctor know about it. A patient with a heart pacemaker should never get an MRI done, it can lead to harmful consequences. 

 

b)Pregnancy- Although the effect of MRI on an unborn child is still not known, you should tell the doctor if you are pregnant or if you think you might be pregnant.

 

c)Care for children-  Usually, children are hesitant to go inside the MRI machine, they are given anti-anxiety medications, so if you are concerned, you should tell the doctor.

 

d)feeling of claustrophobia- Some patients are claustrophobic, they are uncomfortable inside the MRI machine, they should tell the doctor, the doctor might give you medication for anxiety.

How to prepare for MRI Scans?

For the different problems, there are different scans and tests. The different types of tests tell you about the different problems that can occur in your body. MRI is a type of scan and stands for Magnetic resonance imaging. MRI is a type of diagnostic test that can create detailed images of nearly every structure and organ inside the body. MRI uses magnets and radio waves to produce images on a computer. MRI does not use ionizing radiation. Images produced by an MRI scan can show organs, bones, muscles and blood vessels. 

What is the definition of MRI? 

Most of the people will only ever hear the MRI referred to by its abbreviation. The Full form of MRI is Magnetic Resonance imaging. In this test, Radio Waves are used, and powerful magnets are used to click the image from the depth of the human body. These images send the correct and critical information about each and everything that is going on inside your body. The best diagnostic center in Ludhiana is Kalyan Diagnostic.                                                                                                                                                                                                                         

How do you have to prepare for the MRI scans? 

Before going for MRI Scans you have to tell everything about your medical history and medical conditions to your doctor. 

If you have claustrophobia, tell your doctor before going for an MRI scan. 

For the MRI scan, you have to lie down in a tube-like machine. The length of time you will spend in the machine will vary. It could be as long as an hour. If you have claustrophobia, you are going for an MRI Scan, which will surely cause discomfort and sometimes anxiety to the patients. For better cooperation, tell your doctor about your problem so that they can manage some for the treatment of your phobia. The center for the scan of MRI in Ludhiana is well known. 

Do not take your jewelry with you at home. 

Wearing metal is one of the top items on the list of what not to do before an MRI. Because an MRI is essentially a giant magnet, the MRI techs will ask you to remove any metal items from your person before entering the machine, including any jewelry you may be wearing. If you’re wearing inexpensive pieces, this may not be a cause for concern.

Tell all your corners to your doctor, honestly.

Tell your doctor if in your body any piece of metal is implanted because the MRI Scans need high magnetic power. If there is any metallic implantation, then tell your doctor before the scans. The metallic implants include kidney history, pacemaker, injury that can be adjusted with metal, and many more. Tell your health care professionalist before the MRI scans. It causes problems during the scanning procedure. 

Benefits of MRI Scan

MRI scans can be beneficial for taking images of the different parts of the body. It takes images of the Head, joints, abdominal area, and other parts from different directions. Your tissues become less contrasty in MRI than in the CT scan and other different imaging scans. These images provide information to physicians and can be useful in diagnosing a wide variety of diseases and conditions.

Risk factor of the MRI scans. 

The images that are made without the use of ionizing radiations. Patients do not meet the harmful effects of ionizing radiation. But while there are no known health hazards from temporary exposure to the MR environment, the MR environment involves a strong, static magnetic field, a magnetic field that changes with time (pulsed gradient field), and radiofrequency energy, each of which carries specific safety concerns:

  • The strong, static magnetic field will attract magnetic objects (from small items such as keys and cell phones to large, heavy items such as oxygen tanks and floor buffers) and may cause damage to the scanner or injury to the patient or medical professionals if those objects become projectiles. Careful screening of people and objects entering the MR environment is critical to ensure nothing enters the magnet area that may become a projectile.
  • The magnetic fields that change with time create loud knocking noises, which may harm hearing if adequate ear protection is not used. They may also cause peripheral muscle or nerve stimulation that may feel like a twitching sensation.
  • The radiofrequency energy used during the MRI scan could lead to heating of the body. The potential for heating is greater during long MRI examinations.

The diagnostic center does the MRI with a prescription that is given by a doctor who is well-qualified and experienced. Book an appointment with Kalyan Diagnostics for better-quality scans.

What Doctors Seek in Your Mammogram Results

A radiologist is the person who checks the results of your mammography. Radiologists of the best Diagnostic center in Ludhiana use x-ray images to find out about any hidden illness or problems in your skin.  

While seeing your mammogram reports, doctors analyze them with your old mammogram reports. This helps the radiologist to find out if there is anything new on your mammogram this time or not. If new mammogram reports are similar to the old ones, that means no further tests are needed. 

Radiologist searches for the various kinds of changes in your breasts by mammography, like white spots of calcification, strange masses area, and other symptoms that possibly can be the symptoms of cancer. 

Calcification 

There are mainly two types of calcifications. They may or may not be symptoms of cancer. Cancer signs show as white spots on mammography reports. 

Macrocalcifications

Microcalcification is the result of the deposition of calcium tissues. Which often occurs due to old injuries and aging. In general, these are not related to cancer, and biopsy-like additional treatments are not needed. 

It is common in women and starts deposition after the age of 50. 

Microcalcifications

Microcalcifications refer to the small calcium element deposition in the breasts. Microcalcifications are a matter of concern, but they may not be the symptoms of cancer. These tiny calcium deposits help doctors to find out about the possibility of cancers. 

Biopsy is not needed for microcalcification. But if doctors find any strange pattern in them, then experts will suggest a biopsy. 

Masses

There is a special spot on the breasts for the mass, which looks different from other areas of the breasts. Masses can have different possibilities, such as cysts and noncancer hard tumors. Undoubtedly, it can be a symptom of cancer, too. If anybody notices masses in their breasts, then a Mammography Test in Ludhiana at Kalyan Diagnosis is necessary. 

Suppose the doctor is not sure about the lump. Whether it is a fluid-filled cyst or a solid mass, then they might use a needle to see what’s inside the lump. After fluid removal, if a lump disappears, then it might be the just lump, and no further tests are needed. 

But if a lump has no fluid inside, then it is a matter of cancer, and further tests are necessary. 

Asymmetry 

Asymmetry on mammogram reports resembles white spots, which is not normal and similar to breast tissue patterns. It had types like focal asymmetry and global asymmetry. 

Asymmetric patterns are not an indication of cancer, but further tests are necessary to find out whether you have cancer or not. 

Breast Density

Mammogram reports tell about breast density. This tells about the shape and firmness of your breast along with fatty tissues in it. If your breasts are labeled as dense, that means your breasts have more fibrous and glandular tissue instead of fatty tissues. 

एमआरआई (MRI) सर्वाइकल स्पाइन करवाने के क्या है लागत, परिणाम व सम्पूर्ण जानकारी ?

एमआरआई (MRI) जोकि हर बीमारी को पकड़ने में काफी मददगार साबित होती है। साथ ही एमआरआई की मदद से हम अंधरुनि समस्या को जानकर उसका इलाज अच्छे से करवा सकते है। वहीं एमआरआई से सर्वाइकल स्पाइन का इलाज व जाँच को कैसे किया जाता है, इसके बारे में आज के लेख में चर्चा करेंगे ;

एमआरआई (MRI) कैसे सहायक है सर्वाइकल स्पाइन की जाँच के लिए ?

  • एमआरआई सर्वाइकल स्पाइन रीढ़ के सर्वाइकल क्षेत्र (गर्दन के पीछे की तरफ) की जांच और पता लगाने में मदद करता है। यह गर्दन और रीढ़ की अंदरूनी चोट या फ्रैक्चर का पता करने में मदद करते है। 
  • यदि आपको गर्दन के क्षेत्र में दर्द है तो डॉक्टर आमतौर पर इसकी सलाह देते है। यह परीक्षण गर्दन और सर्वाइकल स्पाइन के कोमल ऊतकों का 3-डी दृश्य देता है। वही लुधियाना में MRI का खर्च या सर्वाइकल स्पाइन की कीमत 3000 रुपये से लेकर 6000 रुपये तक है।

सर्वाइकल स्पाइन के MRI में क्या शामिल हो सकते है ?

  • सात कशेरुक जो C1 से C7 तक होते है। 
  • रक्त वाहिकाएं। 
  • नसे। 
  • पट्टा। 
  • बंधन। 
  • उपास्थि आदि इसके MRI में शामिल होते है। 

क्या है सर्वाइकल MRI स्कैन ? 

  • सर्वाइकल एमआरआई (मैग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग) गर्दन के पीछे की हड्डियों, जिन्हें सर्वाइकल स्पाइन कहा जाता है, की विस्तृत छवियां उत्पन्न करने के लिए एक चुंबकीय क्षेत्र और रेडियो तरंगों का उपयोग करते है।  
  • परीक्षण के दौरान, एमआरआई मशीन व्यक्ति के शरीर में एक अस्थायी चुंबकीय क्षेत्र बनाती है, जो शरीर में मौजूद हाइड्रोजन परमाणुओं को क्षेत्र के साथ संरेखित करने के लिए मजबूर करती है।
  • अगर आप गर्दन के पीछे की हड्डियों या सर्वाइकल स्पाइन की समस्या से परेशान है, तो इससे बचाव के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट रेडियोलॉजिस्ट से अपनी जाँच को करवाना चाहिए।

सर्वाइकल स्पाइन MRI का उद्देश्य क्या है ?

  • रीढ़ की हड्डी में चोट लगी हो तो इसके लिए इस स्कैन का चयन किया जाता है।  
  • हड्डियों या कोमल ऊतकों में ट्यूमर या कैंसर होने पर भी आप इस स्कैन का चयन कर सकते है। 
  • हर्नियेटेड डिस्क होने पर इस स्कैन का चयन करना।
  • डिस्क फलाव की समस्या होने पर इसका चयन करना। 
  • जन्मजात या शारीरिक जन्म दोष होने पर इस स्कैन का चयन करना।
  • हड्डियों की बनावट में असामान्यता के आने पर इसका चयन करना।
  • स्पाइनल स्टेनोसिस की समस्या होने पर इसका चयन करना। 
  • ऊपरी अंगों में अकड़न होने पर इसका चयन करना।

MRI सर्वाइकल स्पाइन के विभिन प्रकार क्या है ?

  • WSS के साथ MRI का सर्वाइकल स्पाइन करवाना। 
  • एमआरआई सर्वाइकल स्पाइन फ्लेक्सन-एक्सटेंशन। 
  • ब्रेन जांच के साथ एमआरआई सर्वाइकल स्पाइन की जाँच। 
  • मल्टीपल स्केलेरोसिस का पता लगाने के लिए। 
  • ALS के पहचान के लिए। 
  • गतिशील एमआरआई सर्वाइकल स्पाइन।
  • कंट्रास्ट के साथ एमआरआई सर्वाइकल स्पाइन। 

सर्वाइकल स्पाइन MRI क्यों किया जाता है ?

  • गर्दन, बांह या कंधे में गंभीर दर्द जो इलाज के बाद भी कम ना हो तो इस जाँच का चयन करें। 
  • पैर में कमजोरी या सुन्नता जैसे लक्षणों के साथ गर्दन में दर्द होने पर। 
  • रीढ़ की हड्डी के जन्म दोष या रीढ़ की हड्डी में चोट का पता लगाना। 
  • रीढ़ की हड्डी में संक्रमण या ट्यूमर का पता लगाने के लिए। 
  • रीढ़ की हड्डी में गठिया का पता लगाने के लिए। 
  • परीक्षण स्पाइन सर्जरी से पहले या बाद में भी किया जा सकता है।

सर्वाइकल MRI कैसे किया जाता है ?

  • रेडियोग्राफर आपको स्कैन कक्ष में प्रवेश करने से पहले डेन्चर और विग सहित सभी धातु की वस्तुओं को हटाने का निर्देश देंगे। 
  • वे आपको हॉस्पिटल गाउन पहनने के लिए कह सकते है। 
  • आपको एक बिस्तर पर लेटना होगा, जो एमआरआई स्कैनर मशीन के अंदर चला जाएगा। 
  • प्रक्रिया में एक डाई (कंट्रास्ट) की आवश्यकता हो सकती है, जो परीक्षण से पहले आपकी बांह में एक नस के माध्यम से दी जाएगी। 
  • कंट्रास्ट कुछ क्षेत्रों को अधिक साफ-साफ देखने में मदद करता है। 
  • आपको बिल्कुल स्थिर होकर लेटना होगा, क्योंकि हरकतें तस्वीरों को धुंधला बना सकती है। 
  • परीक्षण आमतौर पर 30-60 मिनट तक चलता है लेकिन इसमें अधिक समय भी लग सकता है। 

सर्वाइकल MRI के जोखिम क्या है ?

  • कंट्रास्ट से एलर्जी की प्रतिक्रिया को करना, जोकि काफी जोखिम भरा होता है। 
  • एमआरआई मशीन में मौजूद मजबूत चुंबक पेसमेकर और अन्य धातु प्रत्यारोपण में खराबी या शरीर के अंदर हिलने-डुलने का कारण बन सकते है। 
  • उपयोग किया जाने वाला कंट्रास्ट उन किडनी रोगों वाले लोगों के लिए हानिकारक हो सकता है जिन्हें डायलिसिस की आवश्यकता होती है।

सुझाव :

सर्वाइकल स्पाइन में अगर आपको दिक्कत है तो इस समस्या का सामना करने के लिए आपको एमआरआई का चयन करना चाहिए, क्युकी एमआरआई की मदद से ये जानना काफी आसान हो जाता है की व्यक्ति को किस तरह की समस्या है। 

इसके अलावा आप चाहें तो इस टेस्ट को कल्याण डायग्नोस्टिक्स हॉस्पिटल से भी करवा सकते है। 

एमआरआई (MRI) स्कैन स्पाइन लम्बर यानि (पीठ में होने वाले दर्द) के मामलों में कैसे है सहायक ?

एमआरआई (MRI) स्कैन जोकि हर तरह की समस्या का स्पष्ट रूप में मूल्यांकन करते है साथ ही इसका चयन करके हमें सब कुछ स्पष्ट हो जाता है की हम किस तरह की बीमारी से जूझ रहें है और साथ ही एमआरआई (MRI) स्कैन डॉक्टरों के लिए काफी सहायक माना जाता है। इसके अलावा एमआरआई स्पाइन लम्बर की समस्या को कैसे विस्तार से बाहर लाने में हमारी मदद करेंगे इसके बारे में हम सम्पूर्ण लेख में चर्चा करेंगे ;

क्या है एमआरआई (MRI) स्कैन ?

  • MRI (मैग्नेटिक रेसोनेंस इमेजिंग) एक जांच की प्रक्रिया है। इसमें शरीर के अंदर की उच्च गुणवत्ता वाली, विस्तृत तस्वीरें बनाने के लिए एक बड़े चुंबक, रेडियो तरंगों और कंप्यूटर का उपयोग किया जाता है। 
  • एमआरआई जांच का चयन अगर कोई भी करता है, तो उसे दर्द की समस्या का सामना नहीं करना पड़ता, इसलिए इस स्कैन का चयन बच्चे भी कर सकते है। 

इस स्कैन का चयन करने से बेशक आपको दर्द की समस्या का सामना नहीं करना पड़ता, लेकिन जरूरी है की अगर आप इस स्कैन का चयन करने जा रहें है तो इससे पहले लुधियाना में MRI का खर्च कितना है इसके बारे में जरूर जानकारी हासिल करें।

एमआरआई (MRI) स्कैन से क्या-क्या बाते सामने आती है ?

  • एमआरआई स्कैन का चयन जब आप करते है तो आपको मस्तिष्क, रीढ़, जोड़ों, हृदय, लीवर, और कई अन्य अंगों जैसे शरीर के कोमल-ऊतक व अन्य संरचनाओं का पता एमआरआई (MRI) चित्रों के द्वारा आसानी से पता लग जाता है। 
  • कैंसर, हृदय की बीमारी, मांसपेशियों और हड्डियों की बीमारियों, और कई अन्य बीमारियों का डायग्नोसिस एमआरआई स्कैन से किया जा सकता है। इस स्कैन की मदद से हम रीढ़ की हड्डी व पीठ की हड्डी में दर्द की समस्या का भी पता लगा सकते है।

एमआरआई (MRI) स्पाइन लम्बर स्कैन में किस तरह की तकनीक का प्रयोग किया जाता है 

  • चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग (एमआरआई) स्कैन एक सामान्य प्रक्रिया है, जिसका उपयोग रीढ़ की हड्डी और अन्य अंगों के निदान के लिए भी किया जाता है। 
  • इस प्रक्रिया में चुंबकीय तरंगों का इस्तेमाल रीढ़ की हड्डी के विस्तृत चित्र का निर्माण करने के लिए उपयोग किया जाता है। 
  • इसमें मरीज को मेज़ पर लेटा कर एमआरआई मशीन के अंदर ले जाया जाता है, जो, एक बड़े डोनट की तरह लगता है। 
  • एमआरआई स्कैन आक्रामक नहीं है और यह एक दर्द रहित प्रक्रिया है। 
  • वहीं एक्स-रे और सीटी स्कैन के विपरीत, एमआरआई स्कैन में विकिरण का उपयोग नहीं होता है, इसलिए यह एक सुरक्षित प्रक्रिया है।

एमआरआई (MRI) स्पाइन लम्बर के प्रकार क्या है ?

  • एमआरआई स्पाइन लम्बर के लिए कंट्रास्ट एजेंट शरीर में इंजेक्शन या मौखिक रूप से दिया जाता है। कंट्रास्ट एजेंट आमतौर पर बेहतर छवियाँ देता है, जबकि बिना कंट्रास्ट इसके विपरीत है। हालांकि, आपके डॉक्टर यह फैसला करते है कि आपको कौन-से टेस्ट के लिए जाना है।
  • अधिकांश एमआरआई स्कैन स्पाइन लम्बर में रोगी को लिटाकर मशीन में ले जाने की आवश्यकता होती है। जो लोग बंद मशीन में जाने से डरते है, उनके लिए यह एक चिंता का विषय हो सकता है। तकनीशियन उन मामलों में एनिस्थिसिया दे सकते है या वह ओपन एमआरआई का विकल्प भी सामने वाले मरीज को दे सकते है, पर ध्यान रहें ये स्कैन थोड़ा मेहगा है।
  • टेस्ला चुंबकीय शक्ति की माप की एक इकाई है। एमआरआई मशीन 1.5 टेस्ला या 3 टेस्ला हो सकती है। 3 टेस्ला एमआरआई स्कैन मशीन तेज गति से बेहतर गुणवत्ता की छवियों का उत्पादन कर सकती है। हालांकि, यह अधिक महंगी होती है। इसके अतिरिक्त, भारत में हो रहे अधिकांश एमआरआई स्कैन के लिए 1.5 टेस्ला मशीन पर्याप्त है।
  • स्पाइन लम्बर क्षेत्र के लिए आवश्यक जानकारी के आधार पर, डॉक्टर स्क्रीनिंग या सामान्य एमआरआई की सिफारिश कर सकते है। 

ध्यान रहें अगर आपको स्पाइन लम्बर करवाना है, तो इसके लिए आप लुधियाना में बेस्ट रेडियोलॉजिस्ट का चयन करें।

स्पाइन लम्बर स्कैन को क्यों कराया जाता है ?

  • पीठ के निचले हिस्से में लगातार दर्द अगर हो तो आप इस स्कैन का चयन कर सकते है। 
  • रीढ़ की हड्डी के निचले भाग में चोट लगने पर। 
  • मस्तिष्क या रीढ़ की हड्डी में कैंसर के लक्षण का पता लगाने पर। 
  • रीढ़ की हड्डी में जन्म से कोई समस्या होने पर। 
  • पैरों के सुन्न पड़ने पर। 
  • पीठ के निचले हिस्से में सर्जरी होने पर।

सुझाव :

अगर आप पीठ या रीढ़ की हड्डी में दर्द की समस्या से परेशान है तो इससे बचाव के लिए आपको स्पाइन लम्बर स्कैन को जरूर करवाना चाहिए, वहीं आप चाहें तो इस स्कैन को कल्याण डायग्नोस्टिक्स हॉस्पिटल से भी करवा सकते है।

लिवर फाइब्रोस्कैन उपचार क्या है और ये किस काम के लिए प्रयोग में लाया जाता है ?

लिवर फाइब्रोस्कैन एक नवीन चिकित्सा प्रक्रिया है जिसका उपयोग लिवर के स्वास्थ्य का आकलन करने में किया जाता है। यह लीवर की कठोरता को मापता है, जो फाइब्रोसिस या घाव का एक प्रमुख संकेतक है, जो विभिन्न लीवर स्थितियों के परिणामस्वरूप हो सकता है। यह गैर-इनवेसिव तकनीक लिवर फाइब्रोसिस के स्तर को निर्धारित करने के लिए एक विशेष अल्ट्रासाउंड मशीन का उपयोग भी करती है, तो आइये जानते है फाइब्रोसिस के बारे में ;

लिवर फाइब्रोस्कैन कैसे काम करता है ?

फाइब्रोस्कैन के दौरान, रोगी अपनी पीठ के बल लेट जाता है और तकनीशियन त्वचा की सतह पर, आमतौर पर पसली के दाहिने हिस्से पर जांच करता है। जांच त्वचा के माध्यम से यकृत तक हल्के कंपन उत्सर्जित करती है, जिससे कतरनी तरंगें बनती है, जिन्हें यकृत की कठोरता निर्धारित करने के लिए मापा जाता है। यह कठोरता रीडिंग लीवर के स्वास्थ्य का एक विश्वसनीय माप है। पूरी प्रक्रिया त्वरित, दर्द रहित है और इसमें एनेस्थीसिया की आवश्यकता नहीं होती है, जिससे यह कई रोगियों के लिए पसंदीदा विकल्प बन जाता है।

लिवर फाइब्रोस्कैन का उपयोग कैसे किया जाता है ?

  • लिवर फाइब्रोस्कैन का उपयोग मुख्य रूप से लिवर रोगों के निदान और निगरानी में किया जाता है, विशेष रूप से विभिन्न स्थितियों, जैसे हेपेटाइटिस सी, फैटी लिवर रोग, अल्कोहलिक लिवर रोग और अन्य के कारण होने वाले लिवर फाइब्रोसिस की प्रगति का आकलन करने में। फ़ाइब्रोस्कैन से प्राप्त परिणाम लीवर की क्षति की सीमा निर्धारित करने और उपचार संबंधी निर्णय लेने में सहायता करते है।
  • इसके अतिरिक्त, फ़ाइब्रोस्कैन परिणाम विशिष्ट हस्तक्षेपों की आवश्यकता का आकलन करने में मदद करते है, जैसे हेपेटाइटिस सी के लिए एंटीवायरल थेरेपी या फैटी लीवर रोग जैसी स्थितियों के लिए जीवनशैली में संशोधन। यह स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों को उपचार की प्रभावशीलता की निगरानी करने और आवश्यकतानुसार उन्हें समायोजित करने की अनुमति देता है, जिससे रोगी देखभाल के लिए अधिक व्यक्तिगत दृष्टिकोण की पेशकश की जाती है।

अगर आप अपने लिवर की जाँच को करवाना चाहते है तो इसके लिए आपको लुधियाना में फाइब्रोस्कैन का उपयोग जरूर से करना चाहिए।

लिवर फाइब्रोस्कैन के लाभ क्या है ?

  • लिवर फ़ाइब्रोस्कैन का मुख्य लाभ इसकी गैर-आक्रामक प्रकृति में शामिल है। परंपरागत रूप से, लीवर स्वास्थ्य मूल्यांकन में लीवर बायोप्सी जैसी आक्रामक प्रक्रियाएं शामिल होती है, जो न केवल असुविधाजनक होती है बल्कि कुछ जोखिम भी उठाती है। फ़ाइब्रोस्कैन इन जोखिमों और असुविधाओं को दूर करता है, जिससे यह एक सुरक्षित और अधिक रोगी-अनुकूल विकल्प बन जाता है।
  • इसके अलावा, यह जल्दी परिणाम प्रदान करता है, जिससे चिकित्सा पेशेवरों को रोगी के यकृत स्वास्थ्य का तुरंत मूल्यांकन करने और उपचार योजनाओं के बारे में समय पर, सूचित निर्णय लेने की अनुमति मिलती है। फ़ाइब्रोस्कैन की सहजता और दक्षता नियमित निगरानी को प्रोत्साहित करती है, जिससे बेहतर रोग प्रबंधन में योगदान मिलता है।

महत्वपूर्ण बातें !

लिवर फाइब्रोस्कैन तकनीक का विकास और व्यापक उपयोग लिवर रोग निदान और प्रबंधन में एक महत्वपूर्ण प्रगति का प्रतिनिधित्व करते है। इस प्रक्रिया की गैर-आक्रामक, तीव्र और सटीक प्रकृति वैश्विक स्तर पर लीवर की स्थितियों के निदान और प्रबंधन के तरीके को बदलने की क्षमता रखती है।

जैसे-जैसे लिवर स्वास्थ्य के क्षेत्र में अनुसंधान और प्रगति जारी है, लिवर फाइब्रोस्कैन के और अधिक विकसित होने की उम्मीद है, जो संभावित रूप से लिवर की स्थितियों में अधिक विस्तृत जानकारी प्रदान करेगा और इसके अनुप्रयोगों का विस्तार करेगा।

फाइब्रोस्कैन का उपयोग क्यों किया जाता है ?

  • फाइब्रोस्कैन एक गैर-इनवेसिव डायग्नोस्टिक टूल है, जिसका उपयोग लिवर के स्वास्थ्य का आकलन करने के लिए किया जाता है। यह लिवर की कठोरता को मापने के लिए एक विशेष प्रकार की अल्ट्रासाउंड तकनीक का उपयोग करता है जिसे क्षणिक इलास्टोग्राफी के रूप में जाना जाता है। फाइब्रोस्कैन का प्राथमिक उद्देश्य लिवर फाइब्रोसिस का निदान करना है, जो एक ऐसी स्थिति है जहां लिवर के ऊतक क्षतिग्रस्त हो जाते है और खराब हो जाते है, जिससे लिवर की शिथिलता हो जाती है।
  • लीवर फाइब्रोसिस कई कारकों के कारण हो सकता है, जिनमें हेपेटाइटिस बी और सी, शराब का दुरुपयोग और गैर-अल्कोहल फैटी लीवर रोग शामिल है। फाइब्रोस्कैन का उपयोग इन स्थितियों के कारण लीवर की क्षति की सीमा का पता लगाने के लिए किया जाता है।
  • प्रक्रिया दर्द रहित और गैर-इनवेसिव है, जो इसे लीवर बायोप्सी जैसी अधिक आक्रामक नैदानिक ​​प्रक्रियाओं का एक लोकप्रिय विकल्प बनाती है। फाइब्रोस्कैन के परिणाम डॉक्टरों को अपने रोगियों के लिए उपचार का सर्वोत्तम तरीका निर्धारित करने में मदद कर सकते है, जिसमें लिवर की कार्यक्षमता में सुधार के लिए दवा या जीवन शैली में बदलाव शामिल हो सकते है।
  • फाइब्रोस्कैन का उपयोग विभिन्न कारकों के कारण होने वाले लिवर फाइब्रोसिस के निदान के लिए किया जाता है और डॉक्टरों को उपचार का सर्वोत्तम तरीका निर्धारित करने में मदद करता है।

लुधियाना में फाइब्रोस्कैन का खर्च कितना आता है, इसके बारे में जानने के बाद ही इसका चयन करें।

याद रखें !

यदि आप लिवर की समस्या का सामना कर रहें है, तो इससे बचाव के लिए आपको कल्याण डायग्नोस्टिक्स सेंटर का चयन करना चाहिए।

निष्कर्ष :

लिवर फाइब्रोस्कैन एक अभूतपूर्व तकनीक है, जो लिवर स्वास्थ्य के मूल्यांकन और निगरानी में क्रांतिकारी बदलाव लाती है। इसकी गैर-आक्रामक प्रकृति, गति और सटीकता इसे यकृत रोगों के निदान और उचित उपचार रणनीतियों का निर्धारण करने में एक अमूल्य उपकरण बनाती है। अपनी निरंतर प्रगति के साथ, फ़ाइब्रोस्कैन रोगी की देखभाल बढ़ाने और यकृत की स्थिति वाले व्यक्तियों के परिणामों में सुधार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए तैयार है।

लिवर फाइब्रोस्कैन एक सरल, दर्द रहित और प्रभावी प्रक्रिया है। लिवर स्वास्थ्य के क्षेत्र में आशा की किरण के रूप में खड़ी है, जो दुनिया भर के रोगियों के लिए लिवर रोगों के बेहतर, अधिक कुशल प्रबंधन का वादा करती है।